रतलाम जिले में आयुष्मान योजना के लिए कर रहे जागरूक
मध्यप्रदेश

रतलाम जिले में आयुष्मान योजना के लिए कर रहे जागरूक

धामनोद। नगर में कोरोना संक्रमण के बाद अब प्रधानमंत्री आयुष्मान योजना अंतर्गत नगरवासियों व आसपास के ग्रामीणों द्वारा आयुष्मान कार्ड बनवाने शुरू कर दिए गए हैं। नगर में 15 दिन के अंदर 1300 से अधिक लोगों ने आयुष्मान योजना अंतर्गत कार्ड बनवाए हैं। यह कार्ड सीएससी द्वारा बनाए जा रहे हैं।

सीएससी के वीएलई मनीष पोरवाल ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा अब नगरवासियों को घर-घर पहुंच आयुष्मान कार्ड बनाने की जानकारी दी जा रही है। नगर की आशा कार्यकर्ता अपने- अपने वार्ड में लोगों को जागरूक कर रही है। अलग-अलग मोहल्लों में कैंप लगाकर व सेंटर पर आयुष्मान कार्ड बनाए जा रहे हैं। आयुष्मान कार्ड समग्र आइडी, आधार कार्ड, मोबाइल नंबर व बॉयोमेट्रिक से बन रहे हैं। इसमें लोगों के 30 रुपये लगेंगे। सरकार द्वारा चिन्हित हॉस्पिटलों में आयुष्मान हितग्राही वर्षभर में पांच लाख तक का इलाज निशुल्क करवा सकेंगे। आयुष्मान भारत के पोर्टल पर कई लोगों की समग्र आइडी का रिकॉर्ड नहीं बता रहा है। इससे नागरिक अपना कार्ड नहीं बनवा पा रहे है। यह लोग इधर-उधर भटक रहे हैं। आयुष्मान योजना तीन प्रकार के हितग्राहियों के लिए हैं। पहली जिनके नाम 2011 की जनगणना की सूची में है और उससे पहले उनके बीपीएल कार्ड बने हैं। दूसरा जिनके संबल कार्ड बने हो ओर तीसरे वो लोग जिनकी खाद्यान्ना पर्ची हो। अन्य लोग इसमें कार्ड नहीं बनवा सकते।

  • तीन सालों से बनाए जा रहे कार्ड

सीएससी द्वारा आयुष्मान कार्ड तीन सालों से बनाए जा रहे हैं। फिर भी नगर के 40 प्रतिशत लोग इससे वंचित है। आयुष्मान अंतर्गत हितग्राहियों को लाभ भी मिलना शुरू हो गया है।

  • आइसीयू में बनाया कार्ड और बड़ौदा में मिली आर्थिक मदद

धामनोद के श्यामलाल पाटिदार को हार्ट अटैक की समस्या आई। उन्हें रतलाम हॉस्पिटल में भर्ती किया गया। पाटीदार के स्वजनों को आयुष्मान कार्ड की जानकारी मिली। सीएससी के वीएलई मनीष पोरवाल ने रतलाम हॉस्पिटल पहुंच आइसीयू में बैठ पाटीदार का कार्ड बनाया। इसके बाद पाटीदार को बड़ौदा में आयुष्मान के चि-ति हॉस्पिटल में ले जाया गया, जहां पाटीदार का उपचार आयुष्मान की मदद से निशुल्क किया गया।

  • प्रतिदिन चार हजार से ज्यादा कार्ड बना रहे

सीएससी के जिला प्रबंधक सुनील पोरवाल ने बताया कि सभी नगर पालिका और सीएससी संचालक आयुष्मान कार्ड के लिए पात्र या अपात्रों को लिस्टेड कर रही है, ताकि कोई पात्र व्यक्ति न छूटे। सीएससी द्वारा प्रतिदिन चार हार से ज्यादा कार्ड बनाए जा रहे हैं। जिले में 1200 सीएससी वीएलई इस काम में लगे हुए हैं। कई हितग्राही इस योजना का लाभ भी ले रहे हैं और समय के साथ आंकड़े बढ़ रहे हैं। महज 30 रुपये के शुल्क पर मिलने वाली सुविधा का लाभ लेने के लिए लोग सेंटरों के चक्कर लगा रहे हैं। किसी भी व्यक्ति का आयुष्मान कार्ड नहीं बना है वो अपनी पात्रता टोल फ्री नंबर 1800111565/14555 पर जान सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *