अयोध्या: राम मंदिर भूमि पूजन पर पड़ोसी मुल्क़ों के मीडिया ने क्या कहा
राष्ट्रीय

अयोध्या: राम मंदिर भूमि पूजन पर पड़ोसी मुल्क़ों के मीडिया ने क्या कहा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए भूमिपूजन किया और फिर मंदिर की आधारशिला रखी.

भारत में यह एक विवादित मुद्दा रहा है. इसलिए मंदिर के निर्माण की शुरुआत होने और ख़ासकर ख़ुद प्रधानमंत्री के उस कार्यक्रम में शामिल होकर मंदिर की आधारशिला रखने के कारण विदेशों में भी इस पर ख़ूब चर्चा हो रही है.

आइए जानते हैं कि भारत के पड़ोसी देशों की मीडिया इस पूरे घटनाक्रम को कैसे देखती है.

बांग्लादेश

बांग्लादेश से दो भाषाओं में प्रकाशित होनेवाली वेबसाइट bdnews24.com ने ख़बर को ‘स्पॉटलाइट’ में जगह दी है और कहा है कि मंदिर वहीं बन रहा है जहां तीन दशक पहले एक मस्जिद को ढहा दिया गया था, जिसके बाद मुल्क भर में सांप्रदायिक दंगे होने लगे थे.

पहले पन्ने पर जगह दी गई रिपोर्ट में कहा गया है कि ”मोदी और उनके राष्ट्रवादी राजनीतिक दल ने इसके साथ ही अपने बहुत पुराने वायदे को पूरा किया है, साथ ही ये उनकी सरकार के दूसरे वायदे को पूरा किये जाने की भी पहली वर्षगांठ है – भारत के इकलौते मुस्लिम-बहुल सूबे के विशेष दर्जे को ख़त्म किए जाने की.”

साइट पर सबसे ज़्यादा पढ़ी गई कहानियों में बाबरी मस्जिद के एक पैरोकार इक़बाल अंसारी और अयोध्या वासी मोहम्मद शरीफ़ को कार्यक्रम में शामिल होने का न्योता मिलने की कहानी शामिल है. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि 1992 में हुए दंगे के चश्मदीद दोनों मुसलमान कार्यक्रम में शामिल हो रहे हैं जो उनकी तरफ़ से ‘सुलह का संकेत’ है.

बांग्लादेश के सबसे बड़े अंग्रेज़ी अख़बारों में से एक ‘डेली स्टार’ ने ख़बर को अपने ‘वर्ल्ड’ पेज में जगह देते हुए पिछले साल आए भारतीय सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले का ज़िक्र करते हुए कहा है, “हालांकि बीजेपी के लिए ये एक शानदार जीत थी, लेकिन आलोचकों के मुताबिक़, ये धर्मनिरपेक्ष भारत को एक हिंदू राष्ट्र में बदलने के लिए उठाया गया एक और क़दम था, जो मोदी के एजेंडे का हिस्सा है.”

‘ढाका ट्रिब्यून’ में अयोध्या पर एक अलग तरह की रिपोर्ट छपी है जिसका शीर्षक है – बुधवार को एक हिंदू देवता को टाइम्स स्क्वायर में क्यों दिखाया जाएगा?

ख़बर में सबसे पहले ये बताया गया है कि मुद्दा इतना विवादास्पद क्यों है?

कहा गया है कि कई लोग इस पूरे मामले को ‘हिंदू फ़ासीवाद’ का हिस्सा बता रहे हैं और विरोध के मद्देनज़र कई स्पॉन्सर कंपनियां पीछे हट गई हैं हालांकि डिज़्नी और क्लियर चैनल आउटडोर कार्यक्रम का हिस्सा हैं.

अंतरराष्ट्रीय पेज में दूसरी ख़बर में कहा गया है कि हालांकि उनके एक मंत्री को कोविड-19 हो गया है, मगर प्रधानमंत्री कार्यक्रम में शामिल होने अयोध्या जा रहे हैं.

एक दूसरे अंग्रेज़ी अख़बार ‘द ऑबज़र्वर’ ने भी इसे अपने अंतरराष्ट्रीय ख़बरों में जगह दी है.

नेपाल

नेपाल के अख़बार ‘द हिमालयन’ ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अयोध्या में दिए गए भाषण के उस हिस्से को हेडलाइन बनाया है जिसमें कहा गया था – ‘सदियों का इंतज़ार ख़त्म हुआ’.

ख़बर में कहा गया है कि अयोध्या के बहुत सारे मुसलमानों ने मंदिर निर्माण का स्वागत किया है, इस उम्मीद में कि इसके बाद हिंदू-मुसलमानों के बीच उपजी कटुता समाप्त हो जाएगी और इसके बाद शहर में आर्थिक प्रगति के काम हो सकेंगे.

मगर अख़बार ने कहा है कि एक प्रभावशाली मुस्लिम संगठन ने मंदिर निर्माण का विरोध किया है जिसे उसने नाइंसाफ़ी, और दबानेवाला, शर्मनाक और बहुसंख्यकों को लुभानेवाला क़रार दिया है.

समाचार पत्र ने इसके लिए ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के बयान का हवाला दिया है.

कई जगहों से प्रकाशित होनेवाले नेपाली भाषा के अख़बार ‘कान्तिपुर’ ने कहा है कि राममंदिर जो भारतीय राजनीति में दशकों से एक बड़ा मुद्दा रहा है, वहां निर्माण का काम बुधवार से शुरु हो गया.

कान्तिपुर में कहा गया है कि हालांकि सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी राम मंदिर निर्माण को राजनीतिक मुद्दे के तौर पर पिछले तीन दशकों से उठाती रही है फिर भी बीजेपी और हिंदूवादी संगठन नींव का पत्थर रखे जाने के कार्यक्रम को वैचारिक और राजनीतिक जीत क़रार दे रहे हैं.

प्रतिष्ठित वेबसाइट हिमाल का कहना है कि अयोध्या में कार्यक्रम हो गया है लेकिन नेपाल को सतर्क रहने की ज़रूरत है ताकि कोई सांप्रदायिक दंगा ना हो, न ही भारत की तरह यहां राजनीति और धर्म का घालमेल किया जाना चाहिए.

अपने लेख में जाने-माने पत्रकार कनकमणि दीक्षित ने कहा है कि जब मज़हब और राजनीति साथ-साथ मिलाये जाते हैं तो इससे समाज में बिखराव पैदा होता है.

पाकिस्तान

पाकिस्तान के अंग्रेज़ी अख़बार ‘द डॉन’ ने अपनी रिपोर्ट में प्रतिष्ठित भारतीय मुसलमानों का नाम लिए बिना उनके हवाले से कहा है कि समुदाय ने इस नई सच्चाई के सामने घुटने टेक दिए है लेकिन उसे डर है कि इसके राष्ट्रवादी विचारों से ताल्लुक़ रखनेवाले हिंदू उत्तर प्रदेश की दूसरी मस्जिदों को निशाना बनायेंगे.

दूसरे अंग्रेज़ी अख़बार ‘द डेली टाम्स’ ने हेडलाइन में कहा है कि पाकिस्तान ने ढहाई गई बाबरी मस्जिद की जगह पर मंदिर बनाये जाने की निंदा की है.

कहा गया है कि भारत में बहुसंख्यकवाद के मामले के बढ़ने के साथ-साथ मुसलमान अपने आपको असुरक्षित महसूस कर रहे हैं और उनके अधिकारों पर लगातार हमला हो रहा है.
















BBC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *