जल शक्ति अभियान में बालोद 8वें, रायपुर 25वें स्थान पर
छत्तीसगढ़

जल शक्ति अभियान में बालोद 8वें, रायपुर 25वें स्थान पर

जल शक्ति अभियान में बालोद 8वें, रायपुर 25वें स्थान पर

रायपुर केंद्र सरकार के जल शक्ति अभियान में शामिल छत्तीसगढ़ के दोनों जिलों बालोद और रायपुर का पहले महीने में प्रदर्शन बेहतर रहा है। इस अभियान में जल संकट से जूझ रहे देश के 254 जिलों को शामिल किया गया है। एक जुलाई से शुरू हुए इस अभियान में राज्य के बालोद जिले ने 59.26 फीसद अंक हासिल कर 8वां स्थान प्राप्त किया है। वहीं, 32.74 फीसद अंक के साथ रायपुर 25वें स्थान पर है। अफसरों ने बताया कि इस अभियान का मुख्य उद्देश्य जल संरक्षण के लाभों के बारे में जागरुकता पैदा करना और जल संसाधनों की कमी व भारत में हर घर में नल का पानी उपलब्ध कराना है।

जल शक्ति अभियान पेयजल और स्वच्छता विभाग के सहयोग से विभिन्न् मंत्रालयों और राज्य सरकारों का एक सहयोगात्मक प्रयास है। इस अभियान के तहत देश के 254 जिलों के 1539 ब्लॉक में केंद्र की ओर से रेन हार्वेस्टिंग, वाटर कन्वर्सेशन और वाटर मैनेजमेंट जैसी चीजों को बढ़ावा दिया जा रहा है। सरकार की ओर से बारिश के पानी को किस तरह बचाने और उसका इस्तेमाल कैसे किया जाए इसकी जानकारी लोगों को दी जा रही है। पौधा रोपण समेत अन्य उपाय भी किए जा रहे हैं।

अभी दूसरा चरण बाकी : यह अभियान दो चरणों में चलाया जा रहा है। एक जुलाई 2019 से पहला चरण शुरू हुआ है। वहीं दूसरा चरण एक अक्टूबर से 30 नवंबर 2019 तक चलाया जाएगा।

डेढ़ माह की मेहनत ने बदल दी बालोद की छवि

करीब दो माह पहले आई एक रिपोर्ट में बालोद जिले को सबसे डाउन वाटर लेवल वाला जिला चिन्हांकित किया गया था। प्रशासन ने इसे चुनौती के रूप में स्वीकार किया। कलेक्टर रानू साहू ने इसे लेकर सबसे चिंतनीय स्थान गुरूर ब्लॉक समेत पूरे जिले में अभियान छेड़ दिया। वाटर हार्वेस्टिंग, पौधारोपण , शोकपिट का निर्माण, तालाबों और कुओं की सफाई, गहरीकरण आदि पर जमकर काम किया गया। गांव-गांव में चौपाल लगाई गई। प्रोजेक्टर के माध्यम से भूजल स्तर नीचे जाने से होने वाले नुकसान के बारे में बताते हुए जागरूक किया गया। जल संरक्षण की दिशा में काम करने वालों को पुरस्कृत किया गया। इस मेहनत का ही परिणाम रहा कि जल शक्ति अभियान के तहत जारी सूची में बालोद जिले को देश में आठवां स्थान मिला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *