बिहार के लिए बड़ी खबर जल्द ही प्रदेश में एक ओर नए बिजली घर में शुरू होगा बिजली का उत्पादन, देखे ये खास रिपोर्ट
बिहार

बिहार के लिए बड़ी खबर जल्द ही प्रदेश में एक ओर नए बिजली घर में शुरू होगा बिजली का उत्पादन, देखे ये खास रिपोर्ट

बिहार में जल्द एक और नए बिजली घर में उत्पादन शुरू हो जाएगा। औरंगाबाद के नवीनगर में स्टेज एक की दूसरी यूनिट से बिजली उत्पादन की प्रक्रिया शुरू है। जल्द यहां ट्रायल शुरू होगा। 660 मेगावाट की इस यूनिट को पहले लगातार 72 घंटे तक चलाया जाएगा। इसके बाद इस यूनिट से व्यवसायिक उत्पादन शुरू होगा। इस यूनिट से बिहार को 85 फीसदी बिजली मिलेगी। उल्लेखनीय है कि नवीनगर में स्टेज एक की पहली यूनिट से बिजली उत्पादन छह सितम्बर, 2019 से ही जारी है।

एनटीपीसी के अधिकारियों के अनुसार स्टेज एक की दूसरी यूनिट से व्यवसायिक उत्पादन शुरू करने के अन्य शर्तों में एक प्रमुख शर्त यह है कि यूनिट अपने फूल लोड पर लगातार 72 घंटे तक चले।
उत्पादन के ट्रायल में कोशिश की जाएगी कि यूनिट को 660 मेगावाट के फूल लोड पर चलाया जाए। तीन दिन तक फूल लोड में उत्पादन होने पर ही इस यूनिट को व्यवसायिक उत्पादन के लायक माना जाएगा। कोशिश है कि इस महीने यहां से बिजली उत्पादन का ट्रायल शुरू हो जाए। जनवरी-फरवरी तक इस यूनिट से व्यवसायिक उत्पादन शुरू हो जाए। यूनिट चालू होने पर शेयर के अनुसार बिहार को 561 मेगावाट बिजली मिलेगी।

अगले साल तीसरी यूनिट
स्टेज एक में एक यूनिट और है। कुल 1980 मेगावाट में अंतिम और तीसरी यूनिट 660 मेगावाट का उत्पादन अगले साल करने का लक्ष्य है। तीनों यूनिट चालू होने पर 85 फीसदी शेयर के अनुसार नवीनगर स्टेज एक से कुल 1683 मेगावाट बिजली बिहार को मिलने लगेगी। अभी इतनी बिजली हर रोज बिहार से बाजार से खरीदती है। नवीनगर की तीनों इकाई चालू होने पर बिहार को बाजार से खरीदने की नौबत नहीं रहेगी।

नवीनगर से बिजली उत्पादन होने का लाभ बिहार को मिलेगा। यहां से बिजली मिलने पर बिहारवासियों को और अधिक बिजली मिलेगी। शहर से लेकर गांव तक सबों को 24 घंटे बिजली देने में यह यूनिट सहायक होगा।
-बिजेन्द्र प्रसाद यादव, ऊर्जा मंत्री

प्रमुख यूनिटों से बिहार का शेयर
– 1197 मेगावाट बिजली पटना के बाढ़-स्टेज दो से
– 1025 मेगावाट बिजली पटना के बाढ़-स्टेज एक से
– 1683 मेगावाट औरंगाबाद के नवीनगर स्टेज एक से
– 425 मेगावाट भागलपुर के कहलगांव यूनिट से
– 634 मेगावाट बिजली बंगाल के फरक्का से

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *