घर ,आफिस ,दुकान या फेक्टरी के अंदर लड़ाई-झगडे से सम्बन्धित कोई भी फोटो नही लगानी चाहिए
लेख

घर ,आफिस ,दुकान या फेक्टरी के अंदर लड़ाई-झगडे से सम्बन्धित कोई भी फोटो नही लगानी चाहिए

घर ,आफिस ,दुकान या फेक्टरी के अंदर लड़ाई-झगडे से सम्बन्धित कोई भी फोटो नही लगानी चाहिए **घर ,आफिस ,दुकान या फेक्टरी के अंदर लड़ाई-झगडे से सम्बन्धित कोई भी फोटो नही लगानी चाहिए **हमारे मन की स्थिति बड़ी कोमल होती है वः जिस चीज को बार बार देखता है उसी का अभ्यास करने लगता है **अगर […]

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व
लेख

वास्तु शास्त्र के अनुसार गऊशाला वायव्य कोण में बनाएं

वास्तु शास्त्र के अनुसार गऊशाला वायव्य कोण में बनाएं वारुण्याम् भोजनगृहम् वायव्यम् पशुमन्दिरम् भंडारम् वेश्मोत्तरस्याम् ऐशान्याम् देवतालयम् **घर में गाय को रखने के लिए वायव्य [उत्तर -पश्चिम] कोण में गऊशाला बनायें **सनातन धर्म के अनुसार गाय के अंदर ३३ करोड़ देवी देवताओं का निवास माना जाता है **इसलिए भारत में सदियों से घर में गाय […]

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व
लेख

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व > अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व और अलग अलग सजावटी वस्तुये या पेंटिंग प्रयोग में लायी जाती है > कम्पुटर के कार्य करने वालों को अपने आफिस के आग्नेय कोण में कम्पुटर का पूरा […]

"एक भारत विजय भारत" पर व्याख्यान
लेख

“एक भारत विजय भारत” पर व्याख्यान

“एक भारत विजय भारत” पर व्याख्यान विवेकानंद केंद्र रायपुर शाखा रायपुर, 14/08/2019। विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी एवं विवेकानंद विद्यापीठ कोटा रायपुर के संयुक्त तत्वावधान में कन्याकुमारी स्थित विवेकानंद शिला स्मारक के 50 वें वर्ष के उपलक्ष में आयोजित व्याख्यान में डॉक्टर ओम प्रकाश वर्मा ने कहा भारत का प्राण 5000 वर्ष पहले भी धर्म था, आज भी […]

कुछ भूखंड उत्तर ,दक्षिण होते है लेकिन बनाते समय भवन को विदिशा बना देते हैं
लेख

कुछ भूखंड उत्तर ,दक्षिण होते है लेकिन बनाते समय भवन को विदिशा बना देते हैं

कुछ भूखंड उत्तर ,दक्षिण होते है लेकिन बनाते समय भवन को विदिशा बना देते हैं   Pt Deonarayan Sharma वास्तु सलाहकार +91 9425207282

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व
लेख

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व 1) अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व और अलग अलग सजावटी वस्तुये या पेंटिंग प्रयोग में लायी जाती है 2) लकड़ी से बनी हुयी भवन को घर या आफिस के दक्षिण दिशा में लगाने से […]

लेख

वास्तु शास्त्र के अनुसार अलग अलग व्यापार व्यवसाय में सफलता प्राप्त करने के लिए वास्तु शास्त्र में कुछ वस्तुएं लगाने का विधान है

वास्तु शास्त्र के अनुसार अलग अलग व्यापार व्यवसाय में सफलता प्राप्त करने के लिए वास्तु शास्त्र में कुछ वस्तुएं लगाने का विधान है कुछ पेंटिंग लगाने मात्र से ही कोई तत्व को विकसित किया जा सकता है । जैसे एक्यूप्रेशर और एक्यूपंक्चर के द्वारा हथेली के हिस्से को दबाने से शरीर के विभिन्न अंगों का […]

वास्तु पुरुष जो कि प्रत्येक भूखण्ड में ईशान में सिर रखकर सोये रहते हैं
लेख

वास्तु पुरुष जो कि प्रत्येक भूखण्ड में ईशान में सिर रखकर सोये रहते हैं

वास्तु पुरुष जो कि प्रत्येक भूखण्ड में ईशान में सिर रखकर सोये रहते हैं > जिनको दिशा समझने में दिक्कत हो रही हो उनके लिए यह उपयुक्त होगा । सभी दिशा और उप दिशा > इसमें आपको हिंदी और इंग्लिश में सभी दिशा स्पष्ट मिलेगी > सभी दिशाओं के स्वामी ग्रह के नाम दिए गये […]

वास्तु शास्त्र के अनुसार खाना खाते समय हमारा मुंह सकारात्मक दिशा में होनी चाहिए
लेख

वास्तु शास्त्र के अनुसार खाना खाते समय हमारा मुंह सकारात्मक दिशा में होनी चाहिए

वास्तु शास्त्र के अनुसार खाना खाते समय हमारा मुंह सकारात्मक दिशा में होनी चाहिए *वास्तु शास्त्र के अनुसार खाना खाते समय हमारा मुंह हमेशा उत्तर या पूर्व दिशा में होनी चाहिए *इसलिए डायनिंग टेबल को हमेशा उत्तर या पूर्व की दीवाल से लगाकर रखना चाहिए *घर के सदस्यों को हमेशा उत्तर या पूर्व की ओर […]

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व
लेख

मिटटी के बहुरंगी बर्तनों से घर में प्यार की उर्जा को बढ़ाएं

मिटटी के बहुरंगी बर्तनों से घर में प्यार की उर्जा को बढ़ाएं **वास्तु शास्त्र के अनुसार ब्रम्हांड में रखी हुयी प्रत्येक वास्तु से कोई न कोई उर्जा विकरित [निकलती] होती रहती है ,इसलिए घर में सामान रखते समय अत्यंत सावधानी रखनी चाहिए **पत्थर का छोटा सा टुकड़ा भी अपने अंदर से कोई न कोई उर्जा […]

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व
लेख

वास्तु दोष निराकरण के लिए तुलसी का प्रयोग

वास्तु दोष निराकरण के लिए तुलसी का प्रयोग **वास्तु शास्त्र में अनेक इसे नियम हैं जिसका पालन फ्लेट या सरकारी निवास में नही हो पता ,पुराने निर्माण कार्यों में भी कुछ निर्माण कार्य इसे होते हैं जिनकों सुधर पाना करीब करीब असम्भव सा हो जाता है । **वास्तु दोष से युक्त निर्माण कार्य नकारात्मक उर्जा […]

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व
लेख

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में केक्टस का पेड़ न लगायें

वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में केक्टस का पेड़ न लगायें **वास्तु शास्त्र के अनुसार घर ,दुकान ,फेक्टरी या व्यवसायिक परिसरों में केक्टस का पेड़ लगाने से मना किया जाता है **केक्टस में कांटे होते हैं और कांटे वाले कोई भी पौधे घर के आसपास में नही होना चाहिए **जिस घर में कांटे होंगे वहाँ […]

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व
लेख

वास्तुशास्त्र के अनुसार भूमि का चयन

वास्तुशास्त्र के अनुसार भूमि का चयन **वास्तुशास्त्र के प्राचीन शास्त्रों में उल्लेख किया गया है कि भवन निर्माण के लिए भूमि का चयन करते समय मिट्टी के स्वरूप ,रंग ,गंध ,ढलान की परख अवश्य की जाए। **वास्तु शास्त्र में मिट्टी को उसके रंग, स्वाद और महक के आधार पर चार श्रेणियों में बांटा गया है- […]

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व
लेख

वायव्य कोण (उत्तर पश्चिम) के गुण और दोष

वायव्य कोण (उत्तर पश्चिम) के गुण और दोष मित्रता और शत्रुता ▶अगर आपके मित्र आपके शत्रु बन गए है ▶और आप उन्हें फिर से मित्र बनाना चाहते है ▶अगर आपके मित्रों की संख्या कम है ▶तो वायव्य कोण को विकसित करे ▶क्योंकि वायव्य कोण से शत्रुता या मित्रता देखा जाता है ▶इस कोण को विकसित […]

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व
लेख

वास्तुशास्त्र के अनुसार करें निर्माण

वास्तुशास्त्र के अनुसार करें निर्माण वास्तुशास्त्र के अनुसार कुल 10 दिशाएं होती है हर दिशा का एक तत्व होता है ये तत्व है अग्नि ,पानी ,वायु ,पृथ्वी और आकाश हर व्यवसाय का अपना कोई ना कोई तत्व होता है हर व्यवसाय का अपना लाभदायक कोना होता है ठीक इसी तरह कोचिंग इंस्टीट्यूट का भी एक […]

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व
लेख

वास्तु शास्त्र में जब भी हम किसी वस्तु को रखते हैं तो निम्न बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए

वास्तु शास्त्र में जब भी हम किसी वस्तु को रखते हैं तो निम्न बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए 💐 प्रश्न -: वास्तु शास्त्र के अनुसार घर के किस कोण में वाशिंग मशीन को रखना चाहिए 💐 संजय -: Dakshin disha mai… shayad? 💐 विपिन जैन -: If north is entry of the house then […]

अलग अलग कार्य की उर्जा को विकसित करने के लिए अलग अलग तत्व
लेख

वास्तुशास्त्र के मूल सिद्धांत

वास्तुशास्त्र के मूल सिद्धांत 💐वातावरण में व्याप्त सकारात्मक उर्जाओं का सदुपयोग और नकारामक उर्जाओं के प्रतिरोध की विधियाँ विकसित की गयी 💐इन्ही विनिधियों और नियमावली को वास्तु शास्त्र कहते हैं 💐 हमारे ऋषियों का सारगर्भित निष्कर्ष है, ‘यथा पिण्डे तथा ब्रह्माण्डे।’ 💐 जिन पंचमहाभूतों से पूर्ण ब्रह्मांड संरचित है उन्हीं तत्वों से हमारा शरीर निर्मित […]

छत्तीसगढ़ में बढ़ता कुपोषण कैसे ख़त्म हो
लेख

छत्तीसगढ़ में बढ़ता कुपोषण कैसे ख़त्म हो

छत्तीसगढ़ में बढ़ता कुपोषण कैसे ख़त्म हो सन २००० से जबसे छत्तीसगढ़ राज्य बना है, नित नए दिन कुपोषण को लेकर चर्चा होती रहती है, कभी आंकड़ा कम हो जाता है कभी बद जाता है, पर कुपोषण का विकराल रूप राज्य से खत्म नहीं होता है| कुपोषण उस अवस्था को कहा जाता है, जब पोष्टिक […]

मायनिंग और मिनरल्स से सम्बन्धित कार्य करने वालों के लिए सबसे महत्वपूर्ण दिशा
लेख

मायनिंग और मिनरल्स से सम्बन्धित कार्य करने वालों के लिए सबसे महत्वपूर्ण दिशा

मायनिंग और मिनरल्स से सम्बन्धित कार्य करने वालों के लिए सबसे महत्वपूर्ण दिशा > मायनिंग और मिनरल्स से सम्बन्धित कार्य करने वालों के लिए सबसे महत्वपूर्ण दिशा पश्चिम माना जाता है > इसलिए अपने आफिस के पश्चिम दीवाल में मायनिंग में लगने वाली बड़ी बड़ी मशीनों को [जो की मायनिंग के अंदर काम करते हुए […]