• November 30, 2022 3:45 am

सड़क किनारे मिलने वाला भुट्टा कर सकता है बीमार, खाने से पहले ये साइड इफेक्ट्स भी जान लें

Share More

05 अक्टूबर 2022 | कभी रिमझिम बारिश में तो कभी शाम को बहने वाली ठंडी हवाओं के बीच सड़क किनारे मिलने वाले चटपटे कोयले पर सिके भुट्टे की महक लोगों को अपनी तरफ खींच ही लेती है। स्वाद ही नहीं सेहत के लिहाज से भी भुट्टा पोषक तत्वों का खजाना माना जाता है। 100 ग्राम उबले कॉर्न में 96 कैलोरी, 73% पानी, 3.4 प्रोटीन, 21 ग्राम कार्ब, 4.5 ग्राम शुगर, 2.4 फाइबर और 1.6 फैट होता है। इसमें ग्लाइसेमिक इंडेक्स (GI) भी बहुत कम होता है। 112 ग्राम पॉपकॉर्न में 16 ग्राम फाइबर होता है। इसके अलावा इसमें पर्याप्त मात्रा में विटामिन E पाया जाता है। इसमें कोलेस्ट्रॉल का स्तर बहुत कम होता है। सेहत के लिए इतना फायदेमंद होने के बावजूद क्या आप जानते हैं सड़क किनारे मिलने वाले भुट्टे को खाने से आपको फायदा नहीं नुकसान होता है। क्या आप जानते हैं यह आपकी सेहत के लिए कितना खतरनाक है। आइए जानते हैं कैसे।

सड़क किनारे मिलने वाला भुट्टा खाने के नुकसान-
1-मक्खियां खराब कर सकती हैं सेहत-

सड़क किनारे मिलने वाले भुट्टे पर मक्खियां सारा दिन बैठीं रहती हैं। ये मक्खियां भुट्टे में कई बैक्टीरिया और रोगाणु छोड़ जाती हैं। ऐसे भुट्टे का सेवन आपको गंभीर बीमारियों का शिकार बना सकता है। कोशिश करें कि ऐसा खुले में रखा हुआ भुट्टा न खाएं।

2-वायु प्रदूषकों के संपर्क में रहते हैं-
सड़क किनारे मिलने वाले भुट्टे दिनभर खुली हवा में रखे रहते हैं और सभी प्रकार के वायु प्रदूषकों के संपर्क में आते हैं। यही कण भुट्टे के साथ आपके शरीर के अंदर जाकर आपको बीमार कर सकते हैं। इसलिए सड़क किनारे खुले में रखे हुए भुट्टों को खाने से बचना चाहिए।

3-नींबू का रस और मसाला भी कर सकता है बीमार-
भुट्टे पर लगाया जाने वाला नमक और नींबू भी कई बार साफ नहीं होता है, जिससे आपकी सेहत खराब होने का डर बना रहता है। भुट्टे में निचोड़ा गया नींबू का रस और मसाला सड़क किनारे मिलने वाले भुट्टे का टेस्ट बढ़ा देते हैं। लेकिन सड़क किनारे भुट्टा बेचने वाले लोग एक ही नींबू का कई बार प्रयोग करते हैं। इतना ही नहीं कई बार पैसे बचाने के लिए अधिकांश लोग खराब या खारिज किए नींबू का भी यूज करने लगते हैं।

सोर्स:–” हिंदुस्तान” 


Share More

Leave a Reply

Your email address will not be published.