तपकरा में गहराने लगा पेयजल संकट, खरीद कर पी रहे पानी
झारखंड

तपकरा में गहराने लगा पेयजल संकट, खरीद कर पी रहे पानी

तोरपा : गर्मी के शुरुआती दौर में ही पीने का पानी का जुगाड़ करना बड़ा ही कठिन होता जा रहा है। तोरपा प्रखंड के तपकरा में पेयजल संकट इस कदर गहराया है कि लोग पानी खरीदकर पीने पर विवश हैं। तपकरा में प्रखंड का बड़ा बाजार ही उसका मुख्य व्यवसायिक केंद्र है। यहां पर बस पड़ाव, बाजारटांड़, विद्यालय और थाना भी है। मुख्य बाजार भी यहीं पर लगता है। इस कारण यहां हमेशा लोगों की भीड़ लगी रहती है। भीड़ रहने के कारण लोगों को पानी के लिए भटकना भी पड़ रहा है। यहां के बस पड़ाव में पेयजल के लिए साधन और सुविधा नाम की कोई चीज नहीं है। रांची से आने वाली बसें यहां पहुंचती हैं, फिर रनिया व लोहाजिमि के लिए रवाना होती है। भीषण गर्मी के कारण जब यहां बस पहुंचती है, तो यात्री पानी के लिए इधर-उधर दौड़ते हुए नजर आते हैं। बस पड़ाव में न हैंडपंप की व्यवस्था की गई है और न ही प्याऊ की व्यवस्था हो पाई है। भीषण गर्मी में प्यास से छटपटाते यात्रियों की मजबूरी का लाभ यहां के दुकानदार उठाते हैं। 15 से 20 रुपये में पानी का बोतल यात्रियों को खरीदना पड़ता है। मजे की बात यह है कि तपकरा बाजारटांड़ में 2010 में एक जलमीनार का निर्माण कराया गया था। लेकिन जलमीनार में पानी कैसे पहुंचेगा विभाग इसकी व्यवस्था ने पहले की ही नहीं थी। जलमीनार बनने के कुछ दिनों के बाद एक डीप बोरिग कराई गई। बोरिग कुछ दिन चली फिर ठप पड़ गया। इसके बाद दूसरी बोरिग ऐसे करते-करते चार बोरिग की गई, लेकिन फिर भी तपकरा वासियों को सही से पानी नसीब नहीं हो रहा है। इसके बाद तपकरा में समस्या को देखते हुए जिप अध्यक्ष जूनिका गुड़िया के प्रयास से एक मोटर दिया गया है। जिससे अभी फिलहाल तपकरा को लोगों को एक बाल्टी पानी मिल रहा है।

——-

कोट :-

जिस जगह बोरिग हो रही है उस जगह ड्राई घोषित हो चुकी है। इस कारण पानी नहीं निकल पा रहा है। तपकरा में लोगों को भरपूर पानी मिले इसके लिए कोयल नदी में इंटेक वेल बना कर लोगों को पानी मुहैया कराई जाएगी।

अनूप हांसदा, सहायक अभियंता, पेयजल एवं स्वच्छता विभाग

तपकरा में 165 कनेक्शन हैं, लेकिन पानी किसी को सही से नहीं मिल पा रहा है। बोरिग से पानी को सिटेक्स में डालते हैं, फिर जलमीनार में सिटेक्स से मोटर की सहायता से चढ़ाते हैं। फिर लोगों को पानी देते हैं।

कलेमून निशा, जलसहिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *