दुर्ग | 31 जुलाई 2021 | जिले के निकुम ब्लॉक के अंतर्गत उतई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में शनिवार (31 जुलाई) को पुरुष नसबंदी के लिए पात्र हितग्राहियों का एनएसवीटी कराया जाएगा। इसके लिए मोर मितान मोर संगवारी चौपाल के माध्यम से चिंहाकित पुरुषों को परिवार नियोजन अपनाने के लिए प्रेरित किया गया। एनएसवीटी के बारे में विस्तार से समझाने पर आज स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के द्वारा 18 पुरुष दम्पतियों का पंजीयन कराया गया। हितग्राहियों के कोरोना टेस्ट निगेटिव आने और बीपी शुगर नार्मल होने पर ही  इस प्रक्रिया  के लिए पात्र घोषित किया गया। शनिवार को सर्जन डॉ एके संयाल के द्वारा पुरुषों की नसबंदी  की जाएगी  

निकुम ब्लॉक के बीएमओ डॉ. देवेंद्र बेलचंदन ने बताया, जनसंख्या स्थरीकरण पखवाड़ा के अंतर्गत 11 जुलाई से 31 जुलाई तक परिवार नियोजन के स्थायी व अस्थायी साधनों के लिए स्वास्थ्य केंद्रों के माध्यम से निशुल्क सेवा प्रदान किया जा रहा है। इसके लिए सप्ताह में फिक्स डे सर्विस के दिन ही  नसबंदी  की सुविधा प्रदान की जा रही है। उतई सीएचसी में गुरुवार को 13 सीटीटी  की गई । पखवाड़े के दौरान अब तक 41 महिला नसबंदी  डॉ. शुभ लक्ष्मी चौधरी के द्वारा की गई| उतई सीएचसी प्रभारी डॉ. एल एन बंजारे ने बताया, कोविड-19 गाइड लाइन को पालन करते हुए नसबंदी  के लिए भीड़ न हो ऐसी व्यवस्था कर  हितग्राहियों की सुविधा अनुसार किया जा रहा है।

परिवार नियोजन अपनाने वाले दम्पतियों को दो बच्चों के बाद समझाइश देकर परिवार की सहमति पर ही नसबंदी की जाती है|  मितानिन व स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं द्वारा परिवार नियोजन के अन्य साधनों को भी अपनाने के साथ दो बच्चों के बीच अंतर रखने के लिए प्रेरित किया जाता है जिससे महिला व शिशु के बेहतर स्वास्थ्य से ही स्वस्थ्य परिवार व समाज का निर्माण होता है। परिवार नियोजन के अस्थाई साधनों जैसे-कंडोम, माला-एन और छाया टेबलेट के बारे में भी मितानिन के माध्यम से लोगों को बताया जा रहा है। डॉ. बंजारे ने बताया पुरुषों को  नसबंदी के लिए जागरुक व प्रेरित करने के उतई में मोर मितान मोर संगवारी चौपाल का आयोजन पखवाड़े के प्रथम चरण में आयोजित किया गया था।

स्वास्थ्य केंद्र पर आयोजित हुई यह गतिविधियां

परिवार नियोजन के अस्थायी साधनों के प्रति भी लोगों में अब जागरुकता बढ़ रही है। अस्थायी साधनों के अंतर्गत महिलाओं को आईयूसीडी, पीपीआईयूसीडी की सेवा, महिलाओं को साप्ताहिक गर्भ निरोधक गोली छाया वितरण किया गया है। इसके अतिरिक्त माला-एन गर्भनिरोधक गोलियों का वितरण किया गया है। साथ ही पुरुषों को कंडोम का वितरण भी किया गया है। स्वास्थ्य केन्द्रों पर पुरुष नसबंदी सेवा और इसके फायदे को प्रदर्शित किया गया था। नसबंदी के तीन माह उपरांत जांच में शुक्राणु संख्या शून्य पाए जाने पर ही हितग्राही को प्रमाण पत्र को प्रदान किया जाएगा। नसबंदी पखवाड़े के दौरान भारत सरकार द्वारा निर्देशित समस्त मानकों एवं दिशा निर्देशों का पालन समस्त स्तरों पर सुनिश्चित किया गया ।

जागरूकता  पखवाड़े में आयोजित हुई यह गतिविधियां

इस दौरान प्रचार रथ के माध्यम से अधिक से अधिक प्रचार प्रसार किया गया । साथ ही व्यक्तिगत चर्चा और पुरुष नसबंदी के फायदे हितग्राहियों को बताए गए।  व्यक्तिगत चर्चा कर पुरुष नसबंदी से संबंधित मिथकों को दूर करने के लिए परामर्श भी प्रदान किया गया।  प्रचार प्रसार के लिए डिजिटल माध्यम के प्रयोग को भी बल दिया गया। प्रचार प्रसार के दौरान कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम के लिए पूरी सावधानी रखी गयी कहीं भी अधिक भीड़ एकत्रित ना हो इसका भी ध्यान रखा गया था ।

Ganesh Sonkar 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *