मध्य प्रदेश में दो दिन में कोरोना के 2572 नए मामले, मुख्यमंत्री ने बुलाई उच्च स्तरीय बैठक
मध्यप्रदेश

मप्र में लाएंगे नये उद्योग, प्रदेश के बेटे-बेटियों को मिलेगा 75 फीसदी रोजगार : शिवराज

भोपाल। मध्यप्रदेश में गरीब परिवारों के मेधावी बच्चों की उच्च शिक्षा की फीस भरवाने का मैंने फैसला किया, ताकि ये भी डॉक्टर, इंजीनियर बनकर अपने सपने को साकार कर सकें। कमलनाथ जी ने इस योजना को बंद कर दिया था, मैंने फिर से प्रारम्भ कर दिया। मध्यप्रदेश की धरती पर उद्योग लाने में हम कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। इन उद्योगों में 75 फीसदी रोजगार प्रदेश के मेरे बेटे-बेटियों को मिलेगा। शासकीय नौकरियों में भर्ती पर लगे प्रतिबंध को हटाकर हमने युवाओं के जीवन को सरल बनाने की दिशा में संकल्पित प्रयास किया है।

यह बातें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार को अनूपपुर विधानसभा क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार बिसाहूलाल सिंह के समर्थन में जनसभा को संबोधित करते हुए कही। उन्होंने कहा कि हमारे जितने भी स्ट्रीट वेंडर बंधु थे, जिनका कोविड-19 के लॉकडाउन के कारण धंधा चौपट हो गया था, उन्हें पुन: स्थापित करने के लिए बिना गारंटी और बिना ब्याज के 10,000 रुपये का ऋण दिया गया है। किसानों की सम्मान निधि में प्रदेश सरकार की ओर से 4 हजार रुपये जोडक़र देने का हमने फैसला किया है। अब प्रदेश के हर किसान के खाते में सरकार की ओर से प्रतिवर्ष 10 हजार रुपये जमा होंगे।

उन्होंने कहा कि प्रदेश के विकास और क्षेत्र के कल्याण की जब भी बात आई, हमने कभी भी पैसों की कमी नहीं आने दी। मैं तो मुख्यमंत्री ही इसलिए बना हूँ कि जनता को लाभ दिला पाऊँ। कमलनाथ जी तो जितने दिन मुख्यमंत्री रहे, उतने दिन रोते रहे। ऐसा मुख्यमंत्री किसी काम का नहीं होता। मैं आप सबसे प्रार्थना करता हूं कि मध्यप्रदेश के विकास और जनकल्याण के कार्य अबाध गति से चलते रहें, इसके लिए आप अपना आशीर्वाद भारतीय जनता पार्टी को दीजिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *