प्याज के आंसू-रो रहे महाराष्ट्र के किसान-कीमतों में भारी गिरावट से नुकसान
महाराष्ट्र राज्य

प्याज के आंसू-रो रहे महाराष्ट्र के किसान-कीमतों में भारी गिरावट से नुकसान

महाराष्ट्र (Maharashtra) में मांग से ज्यादा सप्लाई (Excessive Supply) की वजह से प्याज की कीमतों में जबर्दस्त गिरावट (Onion Price)आई है. बाजार में पुराने प्याज का स्टाक खत्म होने से पहले ही गर्मियों में आने वाले नए प्याज की सप्लाई शुरू हो गई है. इससे प्याज की कीमत बहुत कम हो गई है. प्याज के मामले में महाराष्ट्र का लासलगांव एशिया का सबसे बड़ा बाजार है. नासिक जिले में स्थित लासलगांव बाजार समिति में जो प्याज 3500 से 4000 प्रति क्विंटल के भाव में बिक रहा था उसकी कीमत घट कर अब 2000 से 2300 रुपए क्विंटल हो गई है.

जिससे किसानों को बहुत नुकसान हुआ है. इससे पहले बेमौसम बरसात की वजह से खेतों में ही प्याज सड़ गए थे. इससे बाजार में प्याज की सप्लाई घट गई थी. प्याज की इस कमी की वजह से प्याज महंगा हो गया था. लेकिन बेमौसम बरसात के झटके से उबर कर महाराष्ट्र सहित गुजरात, राजस्थान, मध्यप्रदेश, पश्चिम बंगाल, कर्णाटक और आंध्रपदेश में गर्मी के मौसम में आने वाले प्याज की सप्लाई शुरू हो गई है. लेकिन अचानक सप्लाई बढ़ने से प्याज का भाव एक दम से गिर गया. जिससे प्याज किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है.

सप्लाई बढ़ने से गिरा रेट
महाराष्ट्र के लासलगांव बाजार समिति में पिछले हफ्ते 50 हजार क्विंटल प्याज की आवक हुई. जो अत्यधिक 4390 रुपए और औसतन 3004 रुपए के भाव में बिका. लेकिन सोमवार को इसकी कीमत गिरकर अत्यधिक 2840 और औसतन 2300 रुपए हो गई. जिससे किसान खासे निराश हैं.

किसानों की केंद्र सरकार से मदद की गुहार
प्रति एकड़ 50 से 60 हजार खर्च करने के बाद बेमौसम बरसात की वजह से महाराष्ट्र के किसानों की प्याज की उपज बेकार चली गई थी. और अब प्याज कौड़ियों के मोल बिक रहा है. जिसके बाद किसानों का कहना है कि कहां जाए, क्या करें? किसानों की मांग है कि केंद्र सरकार इसमें दखल दे और प्याज का सही भाव किसानों को दिलाने में मदद करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *