• November 30, 2021 12:19 pm

PROMPT TIMES

⭐⭐⭐⭐⭐ Rating in Google

समस्या-बच्चों में बढ़ रही किडनी की बीमारी, समय पर इलाज न हो तो बढ़ सकती है समस्या

Share More

18 अक्टूबर 2021 | लुधियाना एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्स और अकाई हॉस्पिटल द्वारा बच्चों में किडनी रोगों पर एक सीएमई का आयोजन किया गया। जिसमें लगभग 100 बाल रोग विशेषज्ञों ने हिस्सा लिया। कार्यक्रम की शुरुआत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रसिद्ध नेफ्रोलॉजिस्ट व इंटरनेशनल सोसाइटी ऑफ नेफ्रोलॉजी के पूर्व अध्यक्ष डॉ. विवेक आनंद झा ने की। उन्होंने कहा कि कुछ सालों से बच्चों में गुर्दे की बीमारियों की बढ़ रही हैं। नेफ्रोटिक सिंड्रोम की एक स्थिति जो वयस्कों की तुलना में बच्चों में 15% अधिक आम है और आमतौर पर 1.5 से 6 वर्ष की आयु के बच्चों को प्रभावित करती है। इस स्थिति में गुर्दे के ऊतक क्षतिग्रस्त हो जाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप मूत्र में बहुत अधिक प्रोटीन निकल जाता है। उन्होंने बताया कि मधुमेह, जीवाणु और वायरल संक्रमण, मलेरिया और गले व त्वचा के अनुपचारित स्ट्रेप्ट संक्रमण, यहां तक कि कुछ दवाएं लेने से भी बच्चे नेप्थ्रोटिक सिंड्रोम विकसित कर सकते हैं। यूरोलॉजिस्ट और अकाई हॉस्पिटल के डायरेक्टर डॉ. बलदेव सिंह औलख ने बताया कि गुर्दे की विफलता बच्चे के विकास, यौन परिपक्वता, हड्डियों की ताकत पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकती है और बच्चे के मस्तिष्क के विकास और कार्य को प्रभावित कर सकती है‌।

Source :- दैनिक भास्कर


Share More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *