• September 30, 2022 12:02 am

छत्तीसगढ़ के सात प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को मिला नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस सर्टिफिकेशन अवार्ड

By

Apr 9, 2021
छत्तीसगढ़ के डीजीपी डीएम अवस्थी(Chhattisgarh DGP DM Aawasthi News) का वीडियो आया सामने
Share More

  • छत्तीसगढ़ के सात प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार की ओर सेनेशनल क्वालिटी एश्योरेंस सर्टिफिकेशन अवार्ड दिया गया है।

कोरोना वायरस संक्रमण को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार द्वारा इस बार स्वास्थ्य सुविधाओं का मूल्यांकन वर्चुअली (ऑनलाइन माध्यम से) किया गया | इस सर्टिफिकेशन के लिए केंद्र द्वारा गठित टीम द्वारा चिन्हित स्वास्थ्य केन्द्रों में उपलब्ध सुविधाओं को कई बिन्दुओं पर जांचा गया और उन सभी पैमानों पर खरा उतरने के बाद ही छत्तीसगढ़ के सात प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को यह सर्टिफिकेशन प्रदान किया गया है।यह सर्टिफिकेशन प्राप्त करने के लिए स्वास्थ्य केन्द्रों की सुविधाओं को एनक्यूएएस (नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस स्टैंडर्ड्स) के मानकों के अनुरूप बेहतर और गुणवत्तापूर्ण बनाया जाता है। इसके तहत प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में सुविधा बढ़ाने को लेकर कई काम किए गए हैं।

इस सम्बन्ध में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन, भारत सरकार की अपर सचिव एवं मिशन निदेशक वंदना गुरुनानी ने  छत्तीसगढ़ की अपर स्वास्थ्य सचिव रेनू पिल्लई को एक पत्र जारी कर सूचित भी किया है।

इन प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को मिला है नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस सर्टिफिकेट

नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस सर्टिफिकेट मिलने वालों में सरगुजा  के दो प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र लून्दरा एवं  रघुनाथपुर, कोरिया का प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खडगवां, बेमेतरा का प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र देओरविजा, रायपुर का प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मंदिर हसौद, जांजगीर का प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र राहोद एवं महासमुंद जिले के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पटेवा हैं | कोरिया जिले के खडगवां एवं महासमुंद जिले के पटेवा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को कुछ शर्तों के आधार पर यह सर्टिफिकेशन अवार्ड दिया गया है।

शनल क्वालिटी एश्योरेंस सर्टिफिकेशन प्राप्त करने को लाने होते हैं 70 फीसदी से अधिक अंक !

नेशनल क्वालिटी सर्टिफिकेट के लिए स्वास्थ्य केन्द्रों  को 70 फीसदी से ज्यादा अंक लाने होते हैं। भारत सरकार ने देशभर के अस्पतालों में मरीजों से जुड़ी सुविधाएं बढ़ाने और उनकी गुणवत्ता में सुधार लाने के लिए एनक्यूएएस बनाया है। इसमें 8 बिंदुओं पर अस्पताल का मूल्यांकन किया जाता है। चेकलिस्ट के आधार पर सुविधाओं का आंकलन किया जाता है ताकि छोटी से छोटी सुविधा का भी मूल्यांकन हो सके। 

इन बिंदुओं पर होता है आंकलन !

नेशनल क्वालिटी एश्योरेंस स्टैंडर्ड्स अस्पतालों में मिलने वाली सुविधाओं, सफाई व्यवस्था, सीसीटीवी कैमरे, डाक्टरों की संख्या आदि के आधार पर अस्पतालों का सर्टिफिकेशन करती है। इसके होने के बाद अस्पतालों को अपने आप को उनके स्टैंडर्ड्स के हिसाब से मेंटेन भी करना पड़ता है। क्लीनिकल सेवाएं, इंफ्रास्ट्रक्चर, स्टाफ, पेशेंट वेटिंग एरिया, अस्पताल में वेंटिलेशन, प्रति बेड डॉक्टर और नर्स की संख्या, ओटी में तीन अलग-अलग जोन हैं या नहीं, एयर फिल्टर, तापमान, इंफेक्शन कंट्रोल के उपाय, ऑपरेशन में प्रोटोकाल का पालन, डॉक्टर व स्टाफ को इंफेक्शन कंट्रोल के बारे में जानकारी, मरीज को इलाज में कितना समय लगा आदि। इन बिंदुओं पर आंकलन करने के बाद ही मूल्यांकन दल द्वारा अंक दिए जाते हैं। 

सर्टिफिकेशन के साथ ही स्वास्थ्य केन्द्रों की गुणवत्ता मजबूत करने को मिलती है अतिरिक्त धनराशि

स्वास्थ्य केन्द्रों को जब यह सर्टिफिकेट मिलता है तो भारत सरकार की ओर सम्बंधित स्वास्थ्य केंद्र को अतिरिक्त धनराशि देने का भी प्रावधान है ताकि स्वास्थ्य केन्द्रों की गुणवत्ता को और मजबूत किया जा सके । इस राशि को स्वास्थ्य केन्द्रों की सुविधाओं को बढ़ाने में खर्च किया जाता है। 

.Ganesh Sonkar 

इतने प्रतिशत अंक हासिल कर मिला सर्टिफिकेट

क्रम संख्यास्वास्थ्य केंद्र का नामप्राप्त अंकों का प्रतिशत
1प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र लून्दरा, सरगुजा94.42
2प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र रघुनाथपुर, सरगुजा90.95
3प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खडगवां, कोरिया84.95
4प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र देओरविजा, बेमेतरा74.92
5प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मंदिर हसौद, रायपुर94.44
6प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र राहोद,जांजगीर86.36
7प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पटेवा, महासमुंद82.02












Share More

Leave a Reply

Your email address will not be published.