तेजस्वी ने की ममता बनर्जी से मुलाकात-बंगाल चुनाव में समर्थन का दिया भरोसा

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) पश्चिम बंगाल और असम के चुनावी रण में उतरने जा रहा है। असम में पार्टी ने विधानसभा चुनाव के लिए दोस्त तय कर लिए हैं, जबकि बंगाल में पार्टी की पहली पसंद तृणमूल कांग्रेस ही है। सोमवार को नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात की।

ममता बनर्जी से मुलाकात के बाद तेजस्वी यादव ने कहा कि लालू यादव ने ममता बनर्जी का पूर्ण समर्थन करने के लिए कहा है। तेजस्वी ने मीडिया के साथ बातचीत में कहा कि जहां भी आवश्यकता होगी हम उनके (ममता बनर्जी) साथ खड़े होंगे। हमारी पहली प्राथमिकता भाजपा को बंगाल की सत्ता में आने से रोकना है। साथ ही नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि कितनी सीटों पर राजद बंगाल की चुनाव में लड़ने वाली है ये अभी भी तय नहीं किया गया है।

सोमवार सुबह तेजस्वी ने फिर पार्टी के कुछ प्रमुख नेताओं संग मंत्रणा की। पार्टी सूत्रों का कहना है राजद हर हाल में भाजपा को हराने वाले दलों संग मिलकर लड़ेगा। इससे पूर्व शुक्रवार और शनिवार को तेजस्वी यादव ने गुवाहाटी में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रिपुन बोरा और एआईयूडीएफ के अध्यक्ष सांसद बदरुद्दीन अजमल से कई दौर की मुलाकात की थी। राजद का आधा दर्जन दलों वाले इसी गठबंधन संग चुनाव मैदान में उतरना तय है। पार्टी यहां करीब दर्जनभर सीटें चाहती है। इस दौरे में पार्टी की ओर से दोनों राज्यों के लिए प्रभारी बनाए गए है। सिद्दीकी और राष्ट्रीय महासचिव श्याम रजक भी साथ हैं।

तेजस्वी ने कहा कि बिहार और अन्य राज्यों के लोग बंगाल में रहते हैं। मैं बिहार के सभी लोगों से एकजुट होकर ममता जी का समर्थन करने की अपील करता हूं। मैं उनका समर्थन करने के लिए अपनी पूरी ताकत का इस्तेमाल करूंगा। यह चुनाव बंगाल और उसकी संस्कृति की रक्षा करने वाला है, जो अद्वितीय है। यह बंगाल के मूल्यों को बचाने की लड़ाई है।

तेजस्वी यादव ने भाजपा पर बिहार के विकास के लिए कुछ नहीं करने का आरोप लगाया। तेजस्वी ने कहा कि पटना विश्वविद्यालय को अभी तक केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा नहीं दिया गया। बिहार चुनाव के दौरान 20 लाख नौकरियां देने का वादा किया था लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। कोरोना महामार और लॉकडाउन के दौरान बिहार के मजदूरों के साथ बुरा बर्ताव किया गया। जब वे दूसरे राज्यों में फंसे हुए थे तो उनको बिहार में वापस बुलाने के लिए सरकार ने कुछ नहीं किया। तेजस्वी आरोप लगाते हुए कहा कि जितने मजदूर कोरोना से नहीं मरें उससे कहीं अधिक उनकी मौत सड़क हादसे में हुई, जब वह अपने राज्य में लौट रहे थे। राजद नेता ने आगे कहा कि वहीं इसके विपरीत ममता जी खुद सड़कों पर उतर लोगों की मदद करने के लिए आगे आईं।

बता दें कि पिछले महीने ही राजद और महाराष्ट्र की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के नेताओं ने टीएमसी नेताओं के साथ बातचीत की और बंगाल विधानसभा चुनावों में भाजपा के खिलाफ गठबंधन बनाने पर सहमति व्यक्त की थी। राजद के राष्ट्रीय महासचिव श्याम रजक ने पिछले महीने कोलकाता में ममता बनर्जी के भतीजे और टीएमसी युवा विंग के अध्यक्ष अभिषेक बनर्जी से मुलाकात की। साथ ही टीएमसी के वरिष्ठ लोकसभा सदस्य सौगत रॉय ने एनसीपी के संस्थापक और महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री शरद पवार के साथ दिल्ली में बातचीत की। शरद पवार ने ममता बनर्जी से फोन पर भी बात की थी।

गौरतलब है कि बिहार की सत्ताधारी पार्टी जेडीयू, उत्तर प्रदेश से समाजवादी पार्टी, झारखंड की सत्तारूढ़ पार्टी झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) और महाराष्ट्र की शिवसेना ने भी बंगाल में चुनाव लड़ने का फैसला किया है। माना जा रहा है कि क्षेत्रीय दलों के बंगाल चुनाव में प्रवेश से हिंदी भाषी और आदिवासी लोगों के वोटों में विभाजन की संभावना बढ़ जाएगी। बता दें कि भाजपा ने दावा किया है कि बंगाल की 294 सीटों में से 200 से अधिक सीटें जीतेगी, जबकि चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने सोशल मीडिया पर घोषणा किया है कि बंगाल चुनाव में भाजपा 99 से ज्यादा सीटें जीतती है तो वह अपना पेशा छोड़ देगी। भाजपा के बैरकपुर लोकसभा सदस्य अर्जुन सिंह ने हिन्दुस्तान टाइम्स के साथ बातचीत में कहा कि आगामी चुनाव में किसी क्षेत्रीय पार्टी के आने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा क्योंकि यहां भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच सीधा मुकाबला है।
तेजस्वी यादव अपने चार दिवसीय दौरे के क्रम में रविवार को ही कोलकाता पहुंच गए। बेलिया घाट में आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में तेजस्वी ने पार्टीजनों की नब्ज टटोली। इस बारे में पार्टी प्रधान महासचिव अब्दुल बारी सिद्दीकी ने बताया कि राजद नेताओं-कार्यकर्ताओं ने भाजपा को हराने के लिए चुनाव में उतरने की बात कही। अंतिम निर्णय के लिए राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को अधिकृत किया। तेजस्वी यादव सारी स्थिति से राष्ट्रीय अध्यक्ष को अवगत कराएंगे।

By

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *