विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने वरिष्ठ आदिवासी नेता हीरा सिंह मरकाम के निधन पर गहरा शोक प्रकट किया
छत्तीसगढ़

विस् अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने पूर्व मंत्री चनेशराम राठिया के निधन पर शोक व्यक्त किया

रायपुर 14 सितंबर 2020/ छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने पूर्व मंत्री चनेशराम राठिया के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया।

धरमजयगढ़ विधानसभा क्षेत्र से नेतृत्व कर चुके आदिवासी नेता राठिया सरल सहज नेतृत्व के धनी थे, आदिवासी समाज मे उनकी अपनी अलग पहचान थी, वे अविभाजित मध्यप्रदेश सरकार में मंत्री रहे चुके थे, वहीं विभाजन के बाद जब छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनी तब भी राठिया मंत्री बनाए गए थे।

डॉ महंत ने कहा कि, चनेशराम जी की पहचान कद्दावर आदिवासी नेता के रूप में थी। वे लम्बे अर्से तक विधायक व मंत्री रहे। शहरों के अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में भी उनकी अच्छी पकड़ थी, वे अकसर गांवों में जाकर रुक जाते और लोंगों की समस्या सुनते थे।

उनके निधन पर डॉ महंत अपनी भावपूर्ण श्रद्धांजलि व्यक्त करते हुए ईश्वर से प्रार्थना की है कि उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान दे व परिजनों एवं समर्थकि को इस अपार दुःख को सहन करने की शक्ति प्रदान करें ।

  • छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष डॉ चरणदास महंत ने अभियंता दिवस के अवसर पर सभी इंजीनियरों को बधाई और शुभकामनाएं दी है।

डॉ महंत ने कहा कि भारत के महान इंजीनियर भारत रत्न सर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की स्मृति में उनके जन्मदिन 15 सितम्बर को अभियंता दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत के सबसे पहले सिविल इंजीनियर, बांध बनाने वाले, अर्थशास्त्री, राजनेता, और उन्हें पिछली सदी के अग्रणी राष्ट्र-बिल्डरों में रहे हैं। मैसूर में कृष्णा राजा सागर डैम के निर्माण के लिए मुख्य इंजीनियर थे और साथ ही हैदराबाद शहर के लिए बाढ़ सुरक्षा प्रणाली के प्रमुख डिजाइनर भी थे। उन्हें आधुनिक भारत के विश्वकर्मा के रूप में बड़े सम्मान के साथ याद किया जाता है। सर विश्वैश्वरैया ने अपनी असाधारण दृष्टि और प्रतिभा से भारत में इंजीनियरिंग के क्षेत्र में अतुलनीय योगदान दिया। दक्षिण भारत के कर्नाटक को एक विकसित और समृद्धशाली क्षेत्र बनाने में उनका अभूतपूर्व योगदान रहा है। मैसूर में कृष्णा राज सागर बांध सहित अनेक बांधों के निर्माण और कई उद्योगों की स्थापना में उन्होंने अपनी उत्कृष्ठ तकनीकी कुशलता से नये मापदण्ड स्थापित किये।
किसी भी राष्ट्र और राज्य के निर्माण में इंजीनियरों की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। अपने कार्य के प्रति सर विश्वेश्वरैया की निष्ठा और समर्पण सबके लिए प्रेरणादायक और अनुकरणीय है।

डॉ महंत ने अभियंताओं को अपनी बधाई संदेश में सर विश्वेश्वरैया के आदर्शों और कार्यों से प्रेरणा लेकर प्रदेश के निर्माण में योगदान देने का आव्हान किया है।

मीडिया विभाग
अध्यक्ष
छत्तीसगढ़ विधानसभा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *