• September 27, 2022 12:46 pm

शराब दुकान में लाखों के गोलमाल से प्रदेश सरकार की नीयत पर संदेह बढ़ा : भाजपा

ByPrompt Times

Jul 10, 2020
वसूली के लिए पुलिस जब ख़ुद ही मारपीट करने पर उतर आई है तो प्रतीत हो रहा है कि प्रदेश सरकार सियासी ठिठोलियाँ करने और अराजकता का उत्सव मनाने के लिए ही सत्ता में बैठी है!
Share More

शराब के वैध-अवैध कारोबार ने प्रदेश को कोरोना संकट में धकेलने का काम भी किया : श्रीवास्तव

रायपुरभारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने राजधानी स्थित एक दुकान में शराब के कारोबार में 24 लाख रुपए के गोलमाल के सामने आए मामले को लेकर प्रदेश सरकार की रीति-नीति और नीयत पर सवाल उठाया है। श्री श्रीवास्तव ने कहा कि प्रदेश सरकार शराब की वैध-अवैध कमाई के ज़रिए सरकार चलाने और प्रदेश में सबसे बड़ा शराब घोटाला कर अपनी-अपनी तिजोरियाँ भरने की मंशा से काम कर रही है। यह प्रदेश के लिए दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है।
भाजपा प्रदेश प्रवक्ता श्री श्रीवास्तव ने कहा कि शराब के कारोबार में इतना बड़ा फ्रॉड हो रहा है, पैसों का ऐसा खेल हो रहा है कि प्रदेश सरकार के लिए शराब की दुकानें वैध-अवैध कमाई का अड्डा बन चुकी हैं। अपनी वैध-अवैध कमाई की लालच में प्रदेश सरकार छत्तीसगढ़ को बर्बादी की  अंधी गलियों में धकेलने में भी गुरेज़ नहीं कर रही है। श्री श्रीवास्तव ने कहा कि कोरोना संकट के काल में भी प्रदेश सरकार ने शराब दुकानों को खुला रखने और घर-घर शराब पहुँचाने में जैसी आतुरता दिखाई है, वह सरकार के भ्रष्टाचार व घोटाले की नीयत को रेखांकित करने के लिए पर्याप्त है।
भाजपा प्रदेश प्रवक्ता श्री श्रीवास्तव ने कहा कि शराब का यह वैध-अवैध कारोबार न केवल प्रदेश को बर्बाद करने के राज्य सरकार की ज़िद का प्रतीक है, अपितु शराब की कमाई से चल रही सरकार प्रदेश को कोरोना संकट में डालने पर आमादा है। श्री श्रीवास्तव ने कहा कि  जो शराब की बोतल ख़रीद रहा है, वही ऑटो चला रहा है, रिक्शा चला रहा है, फेरी लगाकर शहर में घूम रहा है, वही डिलीवरीब्वॉय है, बिजली ठीक करने वाला है, मैकेनिक है, और आँकड़े बताते हैं कि इन्हीं  लोगों में कोरोना संक्रमण के मामले ज़्यादा पाए जा रहे हैं जिनसे कोरोना का फैलाव होने की आशंका घनीभूत हो रही है। शराब की वैध-अवैध कमाई की लालच में प्रदेश सरकार आख़िर राज्य को कोरोना संकट में धकेलकर चाहती क्या है?


Share More

Leave a Reply

Your email address will not be published.