• Sat. Oct 23rd, 2021

PROMPT TIMES

⭐⭐⭐⭐⭐ Rating in Google

लॉकडाउन में खाली बैठे बढ़ई ने बना डाली लकड़ी की साइकिल, अब विदेशों से आ रहे ऑर्डर

ByPrompt Times

Sep 14, 2020
लॉकडाउन में खाली बैठे बढ़ई ने बना डाली लकड़ी की साइकिल, अब विदेशों से आ रहे ऑर्डर

कोरोना वायरस महामारी का प्रकोप पूरे देश पर टूट पड़ा है, अब तक करीब 46 लाख से अधिक लोग इसकी चपेट में आ चुके हैं। महामारी पर काबू पाने के लिए केंद्र सरकार ने देशव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की थी जो अब अनलॉक के रूप में लागू है। लॉकडाउन के दौरान सबकुछ बंद होने की वजह से लोगों को अपने घरों में कैद होकर रहना पड़ा, कई लोग इस स्थिति से जल्द निकलना चाह रहे थे तो कुछ ने इसे अवसर की तरह लिया। पंजाब के रहने वाले धनीराम उन्हीं में से एक हैं।

लॉकडाउन के खाली समय में इजाद की लकड़ी की साइकिल
लॉकडाउन में घर पर रहकर धनीराम सग्गू इतना बोर हो गए कि उन्होंने लकड़ी की साइकिल इजाद कर डाली। लोग अब इस साइकिल को काफी पसंद कर रहे हैं और इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो गई हैं। दरअसल, पेशे से बढ़ई (कारपेंटर) धनीराम सग्गू पंजाब प्रांत के जिरकपुर के निवासी है। 40 वर्षीय धनीराम ने अपनी मेहनत और क्रिएटिविटी से जो साइकिल बनाई है वो अपने आप में अनोखी है।

इस तरह आया लकड़ी की साइकिल बनाने का आइडिया
धनीराम ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया कि वह लॉकडाउन में खाली थे तो उनके दिमाग में एक डिजाइन आया, जिसे उन्होंने पहले पेपर पर उतारा। धनीराम ने कहा, ‘इस साइकिल का डिजाइन मैंने पहले कभी नहीं सोचा था, लॉकडाउन के दौरान लकड़ी की साइकिल बनाने का विचार आया, जिसको बनाने में करीब चार महीने का समय लगा। पहले मैंने साइकिल को प्लाई से बनाया लेकिन उसमें थोड़ी कमी रह गई, फिर चार महीने बाद एक अच्छी साइकिल तैयार हुई।’

साइकिल की इंजीनियरिंग को बारीकी से समझा
धनीराम ने बताया, ‘लॉकडाउन के समय मेरे पास काम नहीं था और लकड़ी की साइकिल बनाने का आइडिया भी इसी वजह से आया क्योंकि मेरे पास सिर्फ लकड़ी और प्लाइवुड जैसी चीजें ही थी। इसके अलावा मेरे पास पुरानी साइकिल का सामान भी पड़ा हुआ था।’ धनीराम के मुताबिक उन्होंने पहले साइकिल के पुर्जों को समझा और उसकी इंजीनियरिंग पर बारीकी से गौर किया। इसके बाद उन्होंने पेपर पर एक ब्लू प्रिंट तैयार कर साइकिल पर काम शुरू कर दिया।

धनीराम के पास आ रहे एडवांस ऑर्डर
कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन का यह समय धनीराम के लिए वरदान से कम नहीं है। उनके द्वारा बनाई गई साइकिलों को लोग काफी पंसद कर रहे हैं और अब तक वह 8 साइकिलों को बेच भी चुके हैं। इतना ही नहीं धनीराम के पास कई साइकिलों के एडवांस ऑर्डर भी हैं, जिसे पूरा करने की तैयारी में वह लगे हुए हैं। उन्हें हर रोज न जाने कितने ही फोन आते हैं, लोग उनसे इस साइकिल के बारे में और अधिक जानना चाहते हैं।

इतने रुपए में बिक रही है साइकिल
साइकिल के वजन की बात करें तो यह 20 से 22 किलोग्राम की है। धनीराम इसे और हल्का बनाने के लिए लगातार डिजाइन में बदलवा कर रहे हैं। उन्होंने अपने अगले मॉडल में गियर और डिस्क ब्रेक लगाने का भी फैसला किया है। धनीराम के अनुसार इस साइकिल पर कोई भी आसानी से 25-30 किलोमीटर का सफर तय कर सकता है। फिलहाल धनीराम द्वारा बनाई इस साइकिल को एक निजी कंपनी 15 हजार रुपए में बेच रही है।

विदेशों में भी साइकिल की डिमांड
धनीराम की यह साइकिल अब सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी धूम मचा रही है। लकड़ी से बनी इस साइकिल के खरीदार दिल्ली, जालंधर के अलावा दक्षिण अफ्रीका और कनाडा में भी हैं। वहीं सोशल मीडिया पर भी उनकी ये साइकिल धमाल मचा रही है, कई यूजर्स इसे खरीदने की इच्छा जाहिर कर चुके हैं। एक यूजर ने धनीराम के काम से खुश होकर लिखा, ‘हम सब भारतीय इस दुनिया को बहुत खूबसूरत से भी खूबसूरत बना सकते हैं। बस जरुरत है सब को एक साथ प्रयास करने की।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *