• September 29, 2022 10:31 pm

अमेरिका ने चीन से एक और नाता तोड़ा, अब मेडिकल क्षेत्र में दिया बड़ा झटका

ByPrompt Times

Aug 10, 2020
डोनाल्ड ट्रंप के कोरोना पॉजिटिव होने पर अमेरिका हुआ अलर्ट, लॉन्च किया परमाणु हमले वाला प्लान
Share More

अमेरिका (America) के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump ) एक बार फिर चीन पर भड़के हैं. ट्रंप ने चीन के खिलाफ बड़ा फैसला लिया है. ट्रंप ने कहा, ‘अमेरिका चीन और अन्य विदेशी देशों पर दवाइयों और चिकित्सा समबन्धी आपूर्ति (Import) के लिए अपनी निर्भरता को समाप्त कर देगा’. इसके लिए अमेरिका ने एग्जीक्यूटिव आर्डर (executive order) जारी किया है. इस आदेश में लिखा है, ‘अमेरिकी एजेंसियां अब अमेरिकी श्रोत (source) से दवाइयां खरीदें . साथ ही आने वाले चार वर्षों में अमेरिका चीन और अन्य देशों पर दवाई और फार्मास्यूटिकल्स (pharmaceutical) की निर्भरता समाप्त कर देगा.’ 

ट्रंप ने व्हाइट हाउस (White House ) में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि, ‘चीन ने कोरोना वायरस (coronavirus) फैला कर अमेरिका और दुनिया का बहुत नुकसान किया है’. ट्रंप ने चीन पर निशाना साधते हुए कहा कि, ‘चाहे चीन की अक्षमता हो या उद्देश्य लेकिन ,कोरोना वायरस एक भयानक महामारी है जो अमेरिका के लिए ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया के लिए घातक है. इतना ही नहीं, राष्ट्रपति ट्रंप ने चीन को चुनौती देते हुए कहा, बीजिंग को अमेरिका और दुनिया पर घातक कोरोनो वायरस को फैलाने की कीमत चुकानी होगी.

चीन पर अर्थिक हमला करते हुए ट्रंप ने कहा, ‘अगले चार वर्षों के दौरान, हम अपनी दवा और चिकित्सा संबंधी आवश्यकताओं को अपने राष्ट्र में पूरा कर लेंगे और हम चीन और अन्य विदेशी देशों पर निर्भरता को समाप्त करेंगे.’ ट्रम्प ने कहा, ‘उन्होंने इस निर्भरता को समाप्त करने के लिए आदेश दिए हैं कि अमेरिकी सरकारी एजेंसियां ​​अमेरिकी स्रोतों (source) से सभी आवश्यक दवाएं खरीदें .जब आवश्यक दवाओं की बात आती है, तो अमेरिका अन्य देशों से दवाई खरीदता है.’

ट्रंप ने कहा कि, ‘हम चीन और दुनिया भर के अन्य देशों पर भरोसा नहीं कर सकते हैं जो एक दिन हमें जरूरत के समय में उत्पादों से वंचित कर सकते हैं. हमें स्मार्ट बनना होगा’. राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा, ‘हम द्वितीय विश्व युद्ध के बाद से सबसे तेजी से उद्योग जुटाने में लगे हुए हैं. पिछले छह महीनों में, हमने एक के बाद एक आद्योगिक चमत्कार किया है’.

इससे पहले भी राष्ट्रपति ट्रंप और कई देशों के नेताओं ने चीन पर कोरोना वायरस की सही जानकारी नहीं देने का आरोप लगाया है. जिससे दुनिया भर में बड़े पैमाने पर मानव हताहत और आर्थिक संकट पैदा हो गया. हालांकि, चीन ने अमेरिका के इस आरोप को खारिज कर दिया और  पर  कहा कि अमेरिका ने जनता का ध्यान भटकाने की कोशिश में चीन पर वुहान (Wuhan)  में एक वायरोलॉजी लैब से वायरस को उत्पन्न करने का आरोप लगा रहा है.



















ZEE


Share More

Leave a Reply

Your email address will not be published.