सात जगहों पर किसानों ने किया ट्रैक जाम- चार घंटे तक रेलवे स्टेशन पर ही फंसी रही दो मालगाड़ी
राज्य हरियाणा

सात जगहों पर किसानों ने किया ट्रैक जाम- चार घंटे तक रेलवे स्टेशन पर ही फंसी रही दो मालगाड़ी

केंद्र सरकार की ओर से लागू किए तीन कृषि कानूनों के विरोध में जिले में टोहाना, जाखल व भट्टू सहित सात जगहों पर किसानों ने रेलवे ट्रैक को जाम किया। टोहाना व जाखल में दो मालगाड़ियां किसानों के प्रदर्शन के कारण चार घंटे तक स्टेशन पर ही रोकनी पड़ी। किसानों का प्रदर्शन खत्म होने के बाद इन मालगाड़ियों को पंजाब की ओर रवाना किया जा सका। हालांकि, जिले में दोपहर 12 बजे से 4 बजे तक किसी भी यात्री रेलगाड़ी का समय नहीं होने के कारण लोगों को ज्यादा परेशानी नहीं झेलनी पड़ी। टोहाना, जाखल, भट्टू के अलावा गांव जमालपुर, अमानी, गाजूवाला व कालवन में भी ट्रैक पर किसान जमे रहे।

उधर, प्रशासन भी ट्रैक जाम को लेकर पूरी तरह मुस्तैद रहा। 16 ड्यूटी मजिस्ट्रेट प्रशासन ने लगाए। वहीं सातों जगह ट्रैक के पास डीएसपी स्तर के अधिकारियों के नेतृत्व में भारी पुलिस बल मौजूद रहा। टोहाना में 300 पुलिसकर्मी तैनात रहे।

4 घंटे जाम तो सिर्फ ट्रेलर है, फिल्म अभी बाकी : किसान नेता
संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर क्षेत्र के विभिन्न गांवों से सैकड़ों किसानों ने टोहाना शहर के रेलवे स्टेशन व अमानी फाटक पर ट्रैक जाम किया। दोपहर 12 बजते ही किसान संगठनों ने दिल्ली-फिरोजपुर रेलवे ट्रैक रोक दिया। वहीं, गांव अमानी में भी किसानों ने प्रदर्शन किया। कच्चा आढ़ती यूनियन के प्रधान मा. रघुबीर सिंह, प्रधान गुरदयाल सिंह, रामनिवास, राजेंद्र समैण आदि किसान नेताओं ने कहा कि चार घंटे का रेलवे ट्रैक जाम करके किसानों ने देश भर में किसान आंदोलन के तेज होने का ट्रेलर केंद्र सरकार को दिखाया है, जिसकी फिल्म तो अभी बाकी है। अगर अब भी केंद्र सरकार नहीं मानी तो आने वाले समय में और तेज आंदोलन होगा।

महिलाओं ने किया सुखमणी साहिब का पाठ
टोहाना में रेलवे ट्रैक पर जाम करने के लिए महिला अमरजीत कौर, जोगिंदर कौर, कमलजीत कौर, रेनु, दर्शन कौर, मनजीत कौर सहित कई महिलाओं का समूह रेलवे ट्रैक पर पहुंचा। पहले महिलाओं ने केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए कृषि कानून वापस लेने की मांग की। इसके बाद इन महिलाओं ने रेलवे ट्रैक पर बैठकर सुखमणी साहिब का पाठ करते हुए केंद्र सरकार को सदबुद्धि देने की प्रार्थना की। महिलाओं ने कहा कि वाहेगुरु, केंद्र सरकार को सदबुद्धि बख्शे ताकि किसानों की मांग मानते हुए वह भला काम करें।

बिहार से आई मालगाड़ी के चालक ने स्टेशन से पहले ही लगाए ब्रेक
टोहाना रेलवे स्टेशन पर किसान संगठन 12 बजे से पहले जुटने शुरू हो गए। किसानों द्वारा ट्रैक जाम करने से करीब दो मिनट पहले एक मालगाड़ी कोयला लेकर स्टेशन के नजदीक पहुंची। गाड़ी को चालक ने स्टेशन से पहले रोक दिया। यह रेलगाड़ी कोयला भरकर बिहार के लेखपानी से टोहाना होते हुए पंजाब के मानसा थर्मल प्लांट में जानी थी। चालक ने रेलगाड़ी को टोहाना ओवरब्रिज से पहले ही रोक लिया। इस दौरान नागरिक अस्पताल की एबुंलेंस फार्मासिस्ट रमन, सुनील कुमार व अन्य कर्मियों के साथ स्टेशन पर मौजूद रही।

जाखल में दिल्ली से आई मालगाड़ी नहीं बढ़ सकी आगे
इसी तरह जाखल में भी किसान संगठनों ने प्रदर्शन किया। जाखल रेलवे स्टेशन पर दिल्ली से कोयला लेकर आई मालगाड़ी के इंजन पर चढ़कर किसानों ने प्रदर्शन किया। किसानों के प्रदर्शन के चलते चार घंटे तक मालगाड़ी को स्टेशन पर ही रोके रखा गया। प्रदर्शन समाप्ति के बाद चालक मालगाड़ी लेकर बठिंडा की ओर रवाना हुआ। किसान संघर्ष समिति के राज्य संयोजक मनदीप नथवान, संयुक्त किसान मोर्चा के जिला प्रधान कामरेड जगतार सिंह, छत्रपाल सिंह, खेती बचाओ संघर्ष समिति के मेजर सिंह नागपुर, अखिल भारतीय खेत मजदूर यूनियन के रामचंद्र सहनाल सहित कई किसान नेताओं ने प्रदर्शन को संबोधित किया। इस ट्रैक जाम में महिलाओं की संख्या भी खूब रही।
भट्टू में पहले बंद फाटक के पास चला धरना, 12 बजते ही ट्रैक पर बैठे किसान
भट्टूकलां के रेलवे स्टेशन के पास किसान मोर्चा समन्वय समिति के आह्वान पर किसानों ने रेलवे ट्रैक पर धरना देकर प्रदर्शन किया।रविवार को रेल रोको अभियान के तहत सैकड़ों की तादाद में प्रदर्शनकारी रेलवे ट्रैक पर जमा हुए और सरकार के खिलाफ कृषि कानून के विरोध में नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों को कामरेड विष्णुदत्त शर्मा, सतवीर आजाद, चंद्रमोहन पोटलिया, जगदीश शर्मा, रामकुमार बहबलपुरिया, राजीव सिहाग, देवीलाल सांई, रामप्रकाश बीघड़ सहित कई वक्ताओं ने विचार रखे। रेल रोको आंदोलन में अध्यापक संघ, सर्व कर्मचारी संघ, आंगनबाड़ी वर्कर्स संघ सहित कई संगठनों ने भाग लिया। किसान रविवार सुबह करीब 11 बजे भट्टूकलां के रेलवे स्टेशन के समीप बंद फाटक के पास इकट्ठे होकर धरने पर बैठ गए। 12 बजे किसानों ने रेलवे ट्रैक पर दरियां बिछाकर प्रदर्शन शुरू कर दिया। ड्यूटी मजिस्ट्रेट मार्केट कमेटी सचिव दिलावर सिंह, नायब तहसीलदार बलराम जाखड़ सहित भारी पुलिस बल तैनात रहा। रेलवे स्टेशन पर अग्निशमन गाड़ी, एंबुलेंस भी तैनात की गई। भट्टूकलां में सुबह बठिंडा से चलकर दिल्ली को जाने वाली किसान एक्सप्रेस व श्री गंगानगर से रेवाड़ी जाने वाली स्पेशल पैसेंजर ट्रेन निर्धारित समय पर गई। इस मौके पर पूर्व जिला पार्षद रणधीर बोदीवाली, धर्मवीर गोरछिया, रोहतास डुडी, बिल्लू सांई, विजय जाखड़, इकबाल सिंह, राजेंद्र माचरा, मा. हनुमान, अनुराग भांभू, दिनेश कुमार, हनुमान गोदारा, संदीप कुमार, मेनपाल माचरा, नवनीत गोदारा, लक्ष्य गर्ग, सुरजमल जाखड़ और हनुमान बैनीवाल सहित कई लोग मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *