पहले डर लग रहा था-अब टीका लगने के बाद काफी अच्छा लग रहा है
झारखंड राज्य

पहले डर लग रहा था-अब टीका लगने के बाद काफी अच्छा लग रहा है

रांची: कोरोना वैक्सीन लेने के बाद अब डर नही है। पहले स्वास्थ्यकर्मी, सफाई कर्मी, सुरक्षाकर्मी और पुलिसकर्मियों को टीका लग चुका है। इससे काफी हौसला मिला है। तीसरे फेज की शुरूआत खुद प्रधानमंत्री ने टीका लगवाकर किया इससे बेहतर प्रेरणा और कुछ नही हो सकती। लोगों ने कहा कि टीका लेने से पहले कोरोना का डर सता रहा था। अब इससे निजात मिल गया है। कोरोना का तीसरा चरण बुजुर्गो व गंभीर बीमारियों से ग्रसित लोगों के लिए है। इस क्षेणी में 60 साल से अधिक आयु वर्ग और 45 से 59 साल के बीच के वैसे लोग जो गंभीर बीमारियों से ग्रसित है। जिन्होंने पहले दिन कोरोना का टीका लगवाया उन्होंने अपने अनुभव साझा किए है।
पत्नी कैंसर से पीडि़त-पति को हार्ट की समस्या, दोनों ने लिया कोरोना का टीका

लालपुर के रहने वाले एक दंपति ने कोरोना वैक्सीनेशन के तीसरे फेज में वैक्सीन लेकर लोगों को भी इसके लिए आगे आने की अपील की है। दोनों पति-पत्नी बीमार हैं। 63 वर्षीय पत्नी रानी जयंती देवी को कैंसर है और 78 वर्षीय पति दीपक राणा हार्ट की समस्या से पीडि़त है। इनका पूर्व में बाइपास हो चुका है। दोनों को कोविड का खतरा सता रहा था। खुद से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने के बाद दोनों सदर अस्पताल पहुंचे। एक घंटे कतार में खड़े रहने के बाद टीका लगवाया। रानी जयंती देवी ने बताया कि समाचार पत्र से खुद से नामांकन करने की जानकारी मिली। घर में ही रजिस्ट्रेशन किया और टीका लगवाने पहुंच गए। अस्पताल में रजिस्ट्रेशन के लिए काफी समय लग रहे थे इससे निजात मिला। इधर, दीपक राणा ने लोगों को वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित करते हुए कहा कि वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है। एक घंटे बाद भी कोई साइड इफेक्ट नही है। अधिक संख्या में लोग आगे आकर वैक्सीन लगवाएं।

रातू रोड स्थित मेट्रो गली की रहने वाली 65 वर्षीय कांता देवी को सदर अस्पताल में कोरोना का वैक्सीन लगा। कांता देवी ने कहा कि वैक्सीनेशन की काफी खुशी है। कोरोना ने एक साल में पूरे जीवनशैली को प्रभावित किया। ऐसे में वैक्सीन आने से नई उम्मीद मिली थी। पहले लग रहा था कि वैक्सीन लगेगा तो बीमारी से निजात मिलेगा। अब यह मुझे भी लग चुका है। वैक्सीन लेने के तीन घंटे बाद तक कोई कमजोरी महसूस नही हुई। आगे भी कोरोना के सभी दिशा निर्देश का पालन करूंगी। बताया कि अस्पताल आने के बाद ही एक घंटे कतार में खड़ा होने पड़ा। इसके बाद नामांकन के बाद टीका लगाया गया।

रातू रोड की 63 वर्षीय शालिनी देवी ने बताया कि उन्हें पहले से कोई बीमारी नही है। पिछले एक साल में दो बार कोरोना जांच कराने के बाद भी रिपोर्ट निगेटिव रही। लेकिन कोरोना का डर तो मन में था ही। जैसे पता चला कि 60 से अधिक उम्र के लोगों को टीका लगाया जाएगा वैसे ही अस्पताल पहुंचकर नामांकन कराया और टीका लिया। शालिनी देवी ने बताया कि टीका लेने के बाद काफी अच्छा महसूस हो रहा है। यह देश का वैक्सीन है। इसका कोई साइड इफेक्ट नही है। मौका मिलने पर सभी को जरूर लगवाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *