दुबई पहुंचा जलगांव का केला-1.91 लाख टन हुआ निर्यात-जानिए इस साल कितना हुआ अब तक एक्सपोर्ट
महाराष्ट्र

दुबई पहुंचा जलगांव का केला-1.91 लाख टन हुआ निर्यात-जानिए इस साल कितना हुआ अब तक एक्सपोर्ट

17-जून-2021 | भारत वैसे तो दुनिया का 25% केला उगाता है. बीते साल देश ने 600 करोड़ रुपये से अधिक का केला निर्यात किया है. लेकिन महाराष्ट्र के एक स्पेशल केले के दीवाने दुबई तक में मौजूद हैं और हाल ही में इसकी एक खेप वहां भेजी गई है. भारत दुनिया का 25% केला उगाता है. बीते साल देश ने 600 करोड़ रुपये से अधिक का केला निर्यात किया है. लेकिन महाराष्ट्र के एक स्पेशल केले के दीवाने दुबई तक में मौजूद हैं और हाल ही में इसकी एक खेप वहां भेजी गई है.

महाराष्ट्र का ‘जलगांव केला’
उद्योग और वाणिज्य मंत्रालय ने बुधवार को एक विज्ञप्ति में कहा कि महाराष्ट्र के स्पेशल ‘जलगांव केला’ की एक खेप को हाल ही मेंदुबई रवाना किया गया है. महाराष्ट्र के जलगांव जिले के इस केले को GI Tag मिला हुआ है. इस स्पेशल केले की 22 मीट्रिक टन की खेप को दुबई भेजा गया है. दुबई

पहुंचा तलवंडी के किसानों का केला
मंत्रालय की विज्ञप्ति के मुताबिक इस 22 मीट्रिक टन केले को जलगांव के तलवंडी गांव के किसानों से खरीदा गया है. देश की कृषि निर्यात नीति के तहत जलगांव की पहचान केला क्लस्टर के रूप में की गई है.इसलिए स्पेशल है ये केला महाराष्ट्र का ‘जलगांव केला’ अन्य केलों की तुलना में अधिक फाइबर और मिनरल युक्त होता है. इसकी इसी खासियत के चलते इसे वर्ष 2016 में GI टैग दिया गया. ये जीआई टैग जलगांव के निसर्गराज कृषि विज्ञान केन्द्र के साथ रजिस्टर्ड है.

देश ने बेचा 600 करोड़ से ज्यादा का केला
 बीते कुछ सालों में वैश्विक स्तरीय कृषि प्रक्रियाओं को अपनाने के चलते भारत का केला निर्यात तेजी से बढ़ा है. ये वृद्धि मात्रा और मूल्य दोनों के संदर्भ में देखी गई है. वर्ष 2018-19 में देश का कुल केला निर्यात 1.34 लाख टन था और इसका मूल्य 413 करोड़ रुपये था. वर्ष 2019-20 में ये बढ़कर 1.95 लाख टन हो गया और इसका मूल्य 660 करोड़ रुपये रहा. बीते साल 2020-21 में कोरोना महामारी और उसके चलते लगे प्रतिबंधों के बावजूद देश का केला निर्यात अप्रैल 2020 से फरवरी 2021 के बीच 1.91 लाख टन रहा और इसका मूल्य 619 करोड़ रुपये है.

दुनिया का 25% केला भारत में
भारत दुनिया के प्रमुख केला उत्पादक देशों में से एक है. ये दुनिया का 25% केला उगाता है. आंध्र प्रदेश, गुजरात, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, केरल, उत्तर प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश जैसे राज्य देश के कुल केला उत्पादन का लगभग 70% उत्पादन करते हैं.

क्या होता है जीआई टैग
जीआई टैग से आशय Geographical Indication से है. ये टैग क्षेत्र के विशेष के उत्पादों को दिया जाता है जो उसकी विशेष भौगोलिक पहचान सुनिश्चित करते हैं. जैसे जलगांव केला, दार्जिलिंग चाय, चंदेरी साड़ी, सोलापुर की चादर, मैसूर सिल्क, भागलपुरी सिल्क और बीकानेरी भुजिया को जीआई टैग मिला हुआ है और ये नाम इन उत्पादों की विशेष पहचान जाहिर करते है.

Source : “TV9 भारतवर्ष”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *