जल जीवन मिशन के तहत हुआ एमओयू, 45 हज़ार युवाओं को दिया जाएगा प्रशिक्षण
राजस्थान

जल जीवन मिशन के तहत हुआ एमओयू, 45 हज़ार युवाओं को दिया जाएगा प्रशिक्षण

राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम और वाटर सेनिटेशन सपोर्ट ऑर्गेनाईजेशन राज्य जल एवं स्वच्छता मिशन राजस्थान के मध्य जल जीवन मिशन के तहत प्लम्बिंग, इलेक्ट्रीशियन एवं फिटर कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाए जाने के लिए एक एमओयू किया गया। इस एमओयू के तहत राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम चयनित प्रशिक्षण प्रदाताओं के माध्यम से प्लम्बिंग, इलेक्ट्रीशियन एवं फिटर ट्रेड में 15000 प्रति ट्रेड के हिसाब से कुल 45000 युवाओं को प्रशिक्षित करेगा। इस एमओयू पर आरएसएलडीसी की ओर से प्रबंध निदेशक बिष्णु चरण मल्लिक और डब्ल्यूएसएसओ की ओर से निदेशक अमिताभ शर्मा ने हस्ताक्षर किए। आरएसएलडीसी के अध्यक्ष नीरज के पवन इस दौरान उपस्थित रहे. 

बाड़मेर में 1 हज़ार 365 युवाओं को दिया जाएगा प्रशिक्षण, रोजगार में होगा सहायक

जिले मेंराजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम और वाटर सेनिटेशन सपोर्ट ऑर्गेनाईजेशन राज्य जल एवं स्वच्छता मिशन राजस्थान के मध्य मंगलवार को जल जीवन मिशन के तहत प्लम्बिंग, इलेक्ट्रीशियन एवं फिटर कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाए जाने के लिए एक एमओयू किया गया। इस एमओयू के तहत राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम चयनित प्रशिक्षण प्रदाताओं के माध्यम से प्लम्बिंग, इलेक्ट्रीशियन एवं फिटर ट्रेड में बाड़मेर जिले में 1365 युवाओं को प्रशिक्षित किया जाएगा। प्रति ट्रेड के हिसाब से 455 युवाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा। आगामी दिनों में राजस्थान कौशल एवं आजीविका विकास निगम और ान स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग का वाटर सेनिटेशन सपोर्ट ऑर्गेनाईजेशन राज्य जल एवं स्वच्छता मिशन राजस्थान बाड़मेर जिले में यह प्रशिक्षण आयोजित करवाएगा। इससे प्लम्बिंग, इलेक्ट्रीशियन एवं फिटर जैसी आधारभूत सेवाओं के सेवा प्रदाताओं का नितांत अभाव के चलते ग्रामीण अंचल के लोगों को शहरों की ओर रुख करना पड़ता है। दूसरी ओर गांव का युवा उच्च शिक्षा की तरफ न बढ़ पाने एवं बेरोजगारी की समस्या भी है। इस जल जीवन मिशन में ग्रामीण व स्थानीय युवाओं को इन क्षेत्रों में आधारभूत प्रशिक्षण दिया जाएगा जिससे युवाओं को रोजगार के अवसर उपलब्ध करवाए जा सके. 
 

22 जिलों को प्राथमिकता

योजना के तहत सम्पूर्ण प्रदेश के 33 जिलों में कौशल प्रशिक्षण आयोजित किए जाएंगे लेकिन बाड़मेर समेत 22 जिलों अजमेर, अलवर, बांसवाडा़, भरतपुर, भीलवाडा, बीकानेर, चित्तौडगढ़, चूरू, डूंगरपुर, हनुमानगढ़, जयपुर, जालोर, झुन्झुनू, जोधपुर, करौली, पाली, नागौर, राजसमन्द, सीकर, सिरोही एवं उदयपुर में शीघ्र ही प्राथमिकता से प्रशिक्षण आयोजित किए जाएंगे। प्रशिक्षण के लिए ग्राम सभा द्वारा चयनित प्रशिक्षणार्थीयों की सूची जन स्वास्थ्य एवं अभियान्त्रिकी विभाग आरएसएलडीसी को जिलेवार उपलब्ध करवाएगा। इन प्रशिक्षणों में महिला आशार्थियों को प्राथमिकता दी जाएगी। तीन दिवसीय प्रशिक्षण के लिए प्रशिक्षणार्थीयों की न्यूनतम आयु 18 वर्ष एवं अधिकतम आयु 45 वर्ष तक होनी चाहिए। पीएचईडी के साथ पहले से कार्यरत आशार्थियों को आयु में अधिकतम 5 वर्ष छूट दी जायेगी होगी। वहीं इस प्रशिक्षण के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता 8वीं पास अनिवार्य होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *