• September 30, 2022 6:05 am

महिलाएं और बुजुर्ग सभी बोले-टीका लगाकर हम हैं सुरक्षित

By

Apr 7, 2021
महिलाएं और बुजुर्ग सभी बोले-टीका लगाकर हम हैं सुरक्षित
Share More

ऋषिकेश: कोरोना संक्रमण के खिलाफ टीकाकरण महा अभियान तेजी पर है। टीकाकरण के प्रति उत्साहित नागरिक केंद्र खुलने से पहले ही बड़ी संख्या में यहां पहुंच रहे हैं। केंद्र में मौजूद बुजुर्ग और महिलाओं का कहना था कि टीकाकरण के बाद अब हम पूरी तरह सुरक्षित हैं। मंगलवार को राजकीय चिकित्सालय में 560 व्यक्तियों ने टीका लगवाया।

भारत सरकार ने प्रथम चरण में फ्रंटलाइन वर्कर को कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए टीका लगाने का महा अभियान शुरू किया था। अब एक अप्रैल से 45 वर्ष से अधिक आयु वाले नागरिकों को टीका लगवाए जा रहा है। राजकीय चिकित्सालय ऋषिकेश में टीकाकरण को लेकर बड़ी संख्या में लोग पहुंच रहे हैं। सोमवार को यहां 666 व्यक्तियों ने टीका लगवाया था। मंगलवार को भी टीकाकरण के प्रति नागरिकों में उत्साह बरकरार रहा। सुबह सात बजे से ही टीका लगवाने के लिए लोग यहां पहुंचने लगे थे। नगर ही नहीं बल्कि ग्रामीण क्षेत्र से भी बड़ी संख्या में लोग यहां पहुंच गए हैं। ढालवाला, रायवाला और पशु लोक क्षेत्र से अच्छी खासी भीड़ यहां पहुंच रही है। सुबह के वक्त स्थिति ऐसी थी की टीकाकरण केंद्र के बाहर केंद्र खुलने से पहले ही लंबी लाइन लग गई थी। इस बीच कुछ लोग शारीरिक दूरी का पालन करना भूल गए। यहां मौजूद आशा कार्यकर्ता, सुरक्षाकर्मियों ने इन सभी लोगों को जब समझाया तो सब कुछ व्यवस्थित हो गया।

टीकाकरण में सुबह से ही तेजी आने लगी। 11 बजे तक यहां 120 व्यक्तियों को टीका लग चुका था। सोमवार की तरह मंगलवार को भी टीका लगने के बाद आइसोलेशन के लिए सुरक्षित वार्ड में जब जगह नहीं रही तो कुछ समय पंजीकरण रोकना पड़ा। चिकित्सालय के हेल्थ सुपरवाइजर एसएस यादव ने बताया कि मंगलवार को यहां 560 व्यक्तियों का टीकाकरण किया गया। जिनमें 295 पुरुष और 265 महिलाएं शामिल है।

देखते बनती है टीकाकरण की आत्मीय खुशी
टीका लगवाने से पूर्व लाइन में खड़े व्यक्तियों में अपनी बारी आने की बेताबी साफ नजर आ रही थी। जिनके टीका लग चुका था उनके भीतर आत्मीय संतोष नजर साफ आया। टीका लगाते वक्त गंगानगर निवासी 81 वर्षीय रतनमणि कोटनाला की खुशी देखते बनती थी। उन्होंने बताया कि वरिष्ठ नागरिक होने के नाते मुझे स्वास्थ्य कर्मियों ने ज्यादा देर बाहर खड़े नहीं होने दिया, मैं बहुत खुश हूं। ढाल वाला निवासी सुन 71 वर्षीय सुंदरमणी जोशी, पशुलोक निवासी 73 वर्षीय रानी देवी से जब बातचीत की गई तो उन्होंने बताया कि वह पिछले दो दिन से यहां आ रहे हैं। यहां अत्यधिक भीड़ देखकर वह स्वयं यहां से लौट गए थे। जब ज्यादा इंतजार नहीं किया गया तो हमने स्वास्थ्य कर्मियों को अपनी उम्र का हवाला देते हुए टीकाकरण का आग्रह किया और हमें स्वास्थ्य कर्मी स्वयं टीका लगवाने केंद्र के भीतर ले गए। इन बुजुर्गों का कहना है कि टीकाकरण कोरोना वायरस संक्रमण से लड़ने की शक्ति प्रदान करेगा। कितु मास्क और उचित दूरी का पालन सभी के लिए जरूरी है।

टीका लगवाने विदेशी भी पहुंचा
राजकीय चिकित्सालय में टीका लगवाने के लिए लंबी लाइन के बीच एक विदेशी नागरिक भी ही नजर आया। जब इनसे बात की गई तो उन्होंने अपना नाम शॉटन लेसली केनेट (60 वर्ष) निवासी बारबे ऑस्ट्रेलिया बताया। उन्होंने बताया कि वह टूरिस्ट वीजा पर लक्ष्मण झूला आए थे। वह अभी यहीं रुके हैं। जब उन्हें टीकाकरण की जानकारी मिली तो वह टीका लगवाने यहां चले आए। उन्होंने स्वेच्छा से टीकाकरण कराया। इस विदेशी मेहमान ने भारत सरकार की इस मुहिम को जनहित में एक अच्छा प्रयास बताया।


Share More

Leave a Reply

Your email address will not be published.